Followers

Wednesday, June 8, 2011

पराया हुआ देश ...



हम अपने देश में ही पराये हो गए है , ये कौन सी हवा बहने लगी है..?
चंद विदेशी हाथ बटोरने में लगे है , हमारी खून पसीने कि गाढ़ी कमाई ,
साधू को बना दिया अपराधी इन्होने , और आतंकवादी बने है इनके जमाई ||
भ्रष्टाचार से लड़ने वालो को भी सरकार, साम्प्रदायिक ताकतें कहने लगी है
हम अपने देश में ही पराये हो गए है , ये कौन सी हवा बहने लगी है ||

जिन को हमने चुना देश चलाने को, वो हमें ही चुन चुन के मार रहे है ?
हरिश्चंद्र के देश में सच कि आवाज़ उठाने वाले, झूट के आगे हार रहे है ||
वाल्मीकि किस हक़ से लिखे अब रामायण, रामलीला में भी रावण सेना रहने लगी है||
हम अपने देश में ही पराये हो गए है , ये कौन सी हवा बहने लगी है

गांधी के देश में सत्याग्रह हो गया पाप ,अपने हक़ के लिए लड़ना भी बन गया अभिशाप ||
गांधी के आदर्शो को गांधी ने कर दिया साफ़ , गांधी जिसकी जेब में वो ही अब माई बाप ||
आम आदमी कि मजाल क्या सर उठा के जिये,
गांधी कि आत्मा भी अब यहाँ सहमी सहमी रहने लगी है |
हम अपने देश में ही पराये हो गए है , ये कौन सी हवा बहने लगी है..?

3 comments:

वीना said...

अच्छे भाव...

वन्दना said...

बहुत सुन्दर भावाव्यक्ति।

Rahul said...

amazing , so true and well written

Related Posts with Thumbnails