Followers

Thursday, July 15, 2010

भारतीय पासपोर्ट ऑफिस = अंधेर नगरी चोपट राज ..



भारतीय पासपोर्ट जिसे बनाने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ती है , काफी जद्धोजहद के बाद ही आप भारतीय पासपोर्ट पा सकते हैं ॥ लेकिन जिस तरह भारत के तमाम सरकारी ऑफिसों की हालत है वैसी ही दशा यहाँ के पासपोर्ट ऑफिस की भी है , ये लोग कितना गंभीर है अपने काम को लेकर के इस का पता आप को ये पासपोर्ट देख के लग गया होगा , जरा गोर कीजिये इस पासपोर्ट पे और इसकी जन्मतिथि देखिये जो है ०२/०३/२०१० ॥
यह पासपोर्ट है अजमेर निवासी रोनक सोगानी का है ....उन्होंने ०२/०३/२०१० को पासपोर्ट के लिए आवेदन किया था
लेकिन पासपोर्ट कार्यलय ने पासपोर्ट जारी करते समय यह देखना भी उचित नहीं समझा की फोटो किसी २ महीने बच्चे की है ? पासपोर्ट पे विदेश मंत्रालय की सिल( स्टंप) है और अधिकारी के हस्ताक्षर है जिसे देख के पता चलता है की कितनी अंधेर नगरी है भारतीय पासपोर्ट कार्यालय जयपुर में ॥
यदि मान भी लिया जाए की किसी नाबालिग को पासपोर्ट जारी किया गया है तो क्या पासपोर्ट ऑफिस ने इसके साथ लगने वाले सभी दस्तावेज देखे ? और क्या पासपोर्ट ऑफिस में इतनी अंधेर नगरी है की वो लोग इसको ऐसे ही जारी कर देते है और यदि ऐसे ही जारी करना है तो किस बात के लिए ४५ से ६० दिन लेते है ?
इस पासपोर्ट को देख के आप सोच ही सकते है की क्यों भारत इतना सोफ्ट टार्गेट है आतंकवादियों का क्यूकी यहाँ के सरकारी कर्मचारियों को खाली महीने के शुरुआत मे अपना वेतन गिनने और दिन भर ऑफिस मे चाय की चुस्की लेने के अलवा कोई काम नहीं है ॥
उन्हें बस आँख मूँद के हस्ताक्षर करने है नहीं देखना है की ये पासपोर्ट किसे जारी हो रहा है क्यों जारी हो रहा है और उसमे क्या लिखा है उससे उन्हें कुछ मतलब नहीं है ....
इसी लिए किसी ने सही कहा है १०० मे से ९० बेईमान फिर भी मेरा भारत देश महान ॥

5 comments:

Bhavesh (भावेश ) said...

मेरे एक परिचित जो कुछ दिनों के लिए अप्रैल में भारत गए, उनका इंदौर में बैग किसी ने उड़ा लिया जिसमे पैसे के साथ साथ पासपोर्ट भी था. चोरी हुआ पासपोर्ट भोपाल से पिछले साल ही जारी किया गया था. जब वो पासपोर्ट बनवाने पासपोर्ट कार्यालय पहुंचे तो सबसे पहले तो पासपोर्ट कार्यालय ने तत्काल स्कीम में उनकी अर्जी लेने से साफ़ मना कर दिया. अब चूँकि ऐसा कोई कानून तो नहीं है इसलिए कारण पूछा तो जवाब मिला कि "हमारे भोपाल के दफ्तर में ऐसे ही काम होता है". अरे हरामखोरो तुम भारत के विदेश मंत्रालय में काम करते हो तो उस के कानून से काम करोगे या काम नहीं करने के लिए अपने खुद के कानून बना लोगे. पुराने पासपोर्ट की कोपी के साथ आज नए पासपोर्ट की अर्जी लगाये २ महीने हो गए है लेकिन नतीजा सिफर. चूँकि इस बार पासपोर्ट में पुलिस वेरिफिकेशन की आवश्यकता नहीं है फिर भी ये अर्जी आज तक अटकी पड़ी है. पासपोर्ट ऑफिस को मेल करो तो वो कोई मेल का जवाब देना अपनी तौहीन समझते है या शायद वहाँ कोई इतना पढ़ा लिखा नहीं है जो मेल पढ़ कर जवाब दे सके, फोन करो तो फोन लगता ही नहीं है और जब किसी को भेज कर वो पता करवाते है तो पिछले एक महीने से एक ही जवाब मिल रहा है सब कुछ ठीक है बस एक दो दिन में काम हो जायेगा.
वैसे में हिंसा का समर्थन नहीं करता लेकिन ऐसे नाकाबिल सरकारी नौकरों को नंगा कर के सड़क पर खड़ा कर के गोली से उड़ा देना चाहिए.
एक अनुरोध है कि आप व्पासपोर्ट के चित्र में में कुछ जरुरी जानकरी जैसे नाम, पासपोर्ट नंबर इत्यादि को ब्लाक (काला) कर दे ताकि इस व्यक्तिगत सुचना का दुरूपयोग न हो सके.

सलीम ख़ान said...

same problem se main bhi guzar raha hoon.... farq ye hai ki unhone passport men pura ddress hi galat chhapa hai aur apne data men bhi galat daal rakha hai aur JAUNPUR ke bajaye UNNAO bhej diya hai...

nateeja 17 JUn ka chalaa passport abhi tak nahin mila hai file nunmber hai LKOA05266110

Rahul said...

kutte hai sab ke sab...kaam nahi karna to raste me ja ke bhik kyu nahi mangte...poor janta ka khun pite hai....

संजय भास्कर said...

hum nahi sudhrenge..

Roshani said...

sahi kaha Vijay ji aapne :)
bhale logon ke pas tan dhankne ke liye kapda nahi, barish me dhan ke bore sad rahe hon par muft me bantne ke naam me natak, janta ka paisa rashtrkul khel jise aap gulami ki nishani kah sakte hain usmen laga diya ho, pradooshan ki samsya, list agar kahen to koi ginti nahin...
fir bhi mera bharat mahan...
in netaon ke mukh se aise shubh wachanon ko salam...

Related Posts with Thumbnails