Followers

Wednesday, September 11, 2013

फिर तेरी कहानी याद आई




तुम्हे याद करने के, बहाने निकले है
फिर कुछ गीत, पुराने निकलें है |

कागज , कलम , लफ्ज लिए हाथ में मैंने
हम फिर से , तुझ पर गजल बनाने निकलें है |

तेरी तस्वीर को यूँ ही नहीं छुपाया किताब में
तुझे ज़माने की नजरों, से बचाने निकलें है |

पीता नहीं हूँ, पर मयखाने का पता जानना है
क्यूंकि यारों की महफ़िल, सजाने निकलें है |

बन्दुक ली है , रखा सिन्दूर भी है हाथ में
जरुर कोई रस्म निभाने निकलें है |

तुम्हे याद करने के, बहाने निकले है
फिर कुछ गीत, पुराने निकलें है |

1 comment:

Related Posts with Thumbnails