Followers

Saturday, February 20, 2010

आदत...

जब से दिल लगाया है हमने आपसे,सब कुछ सहने की आदत सी हो गयी है
इंतज़ार करते थे हम आपका देर तक और आप को न आने की आदत सी हो गयी है
कभी हर पल मुस्कुराते थे हम,अब तो रोने की आदत सी हो गयी है
सपनो में रोज़ देखा करते थे आपको अब तो रात-२ भर जागने की आदत सी हो गयी है
बहुत बोला करते थे हम कभी,अब तो चुप रहने की आदत सी हो गयी है
कभी एक हमसफ़र चाहते थे हम भी,अब तो तनहा गम सहने की आदत सी हो गयी है
अब तो चाहे छोड़ भी दो हमे,तुम बिन रहने की आदत सी हो गयी है
जिसे भी चाहा हमने वो छोड़ के चला गया,अब तो खोने की आदत सी हो गयी है
मालूम है की आप हमारी किस्मत में नहीं,बस अपनी किस्मत से लड़ने की आदत सी हो गयी है
अप जहाँ भी रहो खुश रहो,बस येही दुआ मांगने की आदत सी हो गयी है.......

11 comments:

देवेश प्रताप said...

क्या बात है !!!.......बहुत खूब

Ram Krishna Gautam said...

Kiya Bhi kya ja sakta hai, ADAT daalne ke alawa!



Regards

"RAM"

नारदमुनि said...

jisko chaha vo dur ho gya.narayan narayan

नया सवेरा said...

सपनो में रोज़ देखा करते थे आपको अब तो रात-२ भर जागने की आदत सी हो गयी है

bohot khub...

हृदय पुष्प said...

"जिसे भी चाहा हमने वो छोड़ के चला गया,
अब तो खोने की आदत सी हो गयी है
मालूम है की आप हमारी किस्मत में नहीं,
बस अपनी किस्मत से लड़ने की आदत सी हो गयी है"
सुंदर भावात्मक रचना के लिए बधाई तथा शुभ आशीष

हृदय पुष्प said...

अगर "कविता"(कल्पना) है तो तो अति सुंदर लेकिन इतनी छोटी उम्र में अगर अनुभव ऐसा है तो सचमुच बहुत बुरा लगा - इस कमेन्ट डिलीट कर दें

अल्पना वर्मा said...

khush raheeye..

अल्पना वर्मा said...

Holi ki shubhakmanyen!

Vintage Obsession said...

hey first time here:) love reading poetry but my reading hindi is pretty bad wish u would have a translation widget, would've love to read :)

happy holi :)

http://2cupsofteaandacoffee.blogspot.com/

diksha arora said...

nice one dear

Fauziya Reyaz said...

very touching...bahut khoob

Related Posts with Thumbnails