Followers

Monday, February 8, 2010

हैप्पी वेलेंटैने डे -- एक अजब प्रेम कहानी !!

वो दो दिल थे , जो शायद ऊपर वाले की मर्ज़ी से मिले थे
दोनों का मिलना एक दिन अचानक से नेट पे हो गयादोनों मे खूब बाते होने लगी , रोज वो मिलने लगे नेट पे
अपनी भावनाओ को एक दुसरे के दिल तक भेजते रहे शब्दों के माध्यम से
और एक दिन लड़के ने लड़की से कहा की तुम उसको अच्छी लगती हो , लड़की कुछ समझ नहीं पाई आज कल खून के रिश्ते साथ नहीं निभाते तो कोई अजनबी जिसे आज तक देखा भी नहीं हे वो क्या साथ निभाएगा ?

उसने कहा उस लड़के से की तुमने मुझे देखा नहीं है एक बार मुझे देखो फिर उसने अपनी फोटो मेल की ,
उस लड़की का चेहरा ख़राब था कुछ साल पहले एक एक्सिडेंट मे उसका चेहरा बिगड़ गया था ऊपर वाला अच्छे लोगो के साथ ही बुरा क्यों करता है आज तक समझ नहीं आया ?
उस लड़के को लगा की ये मजाक होगा कोई लड़की जिस का दिल इतना साफ़ हो वो इतना बुरा दिख ही नहीं सकती, उसे विश्वास नहीं हुआ उसपे ...
पर मिलना मुमकिन नहीं था दोनों के बीच मे बहुत दूरिय थी दोनों अलग अलग प्रान्त मे रहते थे
लेकिन पढाई के सिलसिले मे उसको एक दिन उस लड़के के प्रान्त मे आना पड़ा शायद ऊपर वाला उनदोनों को मिलाना चाहता थाएक बार !!
फिर एक दिन दोनों मिले लेकिन जो उस लड़की ने उसके बारे मे बताया था वो एक दम सच था
उस लड़के ने उसे जब उसे दूर से देखा उसे झटका लगा एक ख्याल आया मन में की मिले उससे अब, लेकिन फिर पता नहीं क्यों वो उससे मिला दोनों ने कुछ पल साथ बिताये एक दुसरे के बारे मे जाना !!
उस दिन से उनकी दोस्ती और भी गहरी हो गयी वो काफी समय अब फ़ोन पे बात करते
वो लड़का अब मन ही मन उसे चाहने लगा था
लेकिन वो जानता था की कुछ मुमकिन नहीं है क्युकी जात पात सम्प्रदाय प्रांतवाद और जाने कितने मुद्दे इस रिश्ते के बीच मे बाधा बनेंगे और उसके घर वाले और उसकी सोसाइटी वाले कभी भी ऐसी लड़की को अपने घर की बहु बनाना पसंद नहीं करेंगे !
और ही उस लड़की के घर वाले कभी किसी अजनबी पे इतना भरोसा करेंगे दोनों ही इस बात को अच्छे से जानते थे लेकिन दिल कहा किसी की सुनता है ?
वेलेंटैने डे की रात उस लड़के ने उसे फ़ोन किया और उसको अपने दिल की बात बताई
उसने कहा मे जानता हूँ में तुम्हरे लायक नहीं हूँ , मे तुम्हे ज़माने की सभी खुशियाँ नहीं दे सकता , हमारा इस जन्म मे मिलना मुमकिन नहीं हैलेकिन फिर भी में तुम को आज कह रहा हूँ आई लव यू
इस जनम में तुम अपने मम्मी पापा का अपना सपना पूरा करो , कुछ बन के दिखाओ लोगो को
लेकिन अगले जनम में और उसके बाद सात जन्मो के लिए तुम मेरी हो
में तुम्हारा इंतज़ार करूँगा हर जनम मैं
दोनों की दिल की धड़कने बढ़ गयी थीऔर दोनों के आँखों से आँसू बह रहे थे अब कोई कुछ नहीं कह रहा था सब शांत थे बस आँखों से आँसू बह रहे थेगम के या ख़ुशी के कोई नहीं जानता था !! पर एक अजब सा सुकून था दोनों के मन में !!

8 comments:

अल्पना वर्मा said...

MarmSparshi kahani..

विचारों का दर्पण said...

वाह !!....इस नेट की दुनिया ने कई ऐसे प्यार को जन्म दिया ......लेकिन अफ़सोस, इस बेजुबान मुहोब्बत को ये दुनिया जीने नहीं देती . .....मेरा लाख -लाख सलाम उन दोनों महोब्बत के बादशाहों को ........और आपका शुक्रिया ये मुहब्बत की दास्तान यहाँ पे व्यक्त करने का

Parul said...

rochak prem dastaan :)

Ram Krishna Gautam said...

Readable LOVE STORY. Really Itz An Interesting Story. Well! I Am Not Interested In LOVE STORIES But You've Expressed It Very Perfectly. I Am Impressed to read It.

Waiting.... For Next Posting!

Regards


Ram Krishna Gautam

boletobindas said...

इस जन्म में साथ न निभांए, अगले जन्म का वादा करना कहां तक उचित है....अपवाद में गिनी जाती है ये मोहब्बत..परिवार अगले जन्म में भी तो होगा.....फिर सात जन्म क्या..प्यार हो तो फिर जितने भी जन्म हो क्या फर्क पड़ता है..
नहीं क्या?

EKTA said...

hats off to u mikey....

Naina Sethi said...

Love your blog. Needless to say, you have got talent.
I am a fashion writer and think that you should follow my blog. enrapturenow.blogspot.com

दिगम्बर नासवा said...

प्रेम इम्तिहान लेता है .... अच्छी है कहानी पर ये बलिदान क्यों .......

Related Posts with Thumbnails